ऐ ज़िन्दगी – Ae Zindagi

May 7, 2010 at 7:16 pm | Posted in india, poem | 1 Comment
Tags: , , , , , , , ,

ऐ ज़िन्दगी

कभी कटती है कभी कटती ही नहीं,

ज़िन्दगी से मेरी पटती ही नहीं |

हर किसी के लिए खुलती सी जाती है,

सिर्फ अपने लिए सिमटती ही नहीं |

रोज़ कितनी बार मुझको मार देती है

कभी मेरे हाथों पिटती ही नहीं |

दिन रात इसकी बोली मैं घोंटता रहता हूँ

कभी मेरी बोली ये रटती ही नहीं |

जो जानता नहीं उसे ये मिल नहीं पाती

जीने वालों के लिए कभी घटती ही नहीं |

1 Comment »

RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

  1. Wonderful! But why such pessimistic approach??


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.
Entries and comments feeds.

%d bloggers like this: