Bachche khilkhilaate hain…

August 12, 2010 at 11:05 pm | Posted in india, knowledge, poem | Leave a comment
खुदा एक है बस इबादत के ज़रिये बदल जाते हैं 

कहीं पे घंटे बजते हैं कहीं बच्चे खिलखिलाते हैं |


जुगनू की मानिंद चमकने का जज्बा नहीं दिखता 

गोया सुबह के चराग की तरह मंद होते जाते हैं |


मकामी चीज़ें कैसी भी हों छोटी ही दिखती हैं 

कमी तो लोग दूर होकर ही समझाते हैं |


ज़िन्दगी जीने की तो वो सोचते नहीं 

तरीकों की फेहरिस्त लम्बी करते जाते हैं |


बावफाओं के हालातों की मालूमात कोई करता नहीं  

बस बेवफाओं से ही मोहब्बत की नीयत रखे जाते हैं |

हिमाँशु जोशी

Leave a Comment »

RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Create a free website or blog at WordPress.com.
Entries and comments feeds.

%d bloggers like this: